harassment-banner

//हमें रोने दो, बिलखने दो लेकिन ख़बरदार जो कड़ी निन्दा की// आज अलावलपुर गावं में हम सभी जम्मू व कश्मीर पुलवामा में हुए घातक फ़िदायीन हमले का कड़ा रोष करते हैं।अभी 2016 उरी, आर्मी कैंप पर हुए आतंकवादी हमले के सदमें से हम उबरे नहीं थे कि ये घातक हमला?! पिछले 55 महीनो में पाकिस्तान ने क़रीब 5000 ceasefire violation किए । जो बार बार आगाह कर रहे थे की लातों के भूत बातों से नहीं मानते। लेकिन हम बस चुनावी भाषणों में उरी सर्जिकल स्ट्राइक की प्रशंसा करते व उस पर फ़िल्म बनाकर दर्शकों के बहाने वोटरों को लुभाते रह गए।पाकिस्तान ने दिन दहाड़े , खुलेआम , पूरी planning से हमला किया है , अब भी किस बात का इंतज़ार है, हमारे जवानो की शहादत का बदला लेने के लिए? इस समय कोई पक्ष विपक्ष नहीं है, सब union गवर्न्मंट के साथ हैं ।high time to say की अलविदा पाकिस्तान । उठिए मोदी जी, बदला लीजिए , वरना देश की जनता माफ़ नहीं कर पाएगी आपको । कोई राजनीतिक नहीं; पूर्णतया मातृभूमि व इसके वीरों की आन की बात है । पूरा देश आपके साथ खड़ा है आज । सभी शहीदों को नम आँखों से तहे दिल से भावभीनी श्रद्दांजलि है व परिवारों को साथ। घायल जवानों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हैं। जय हिन्द जय भारत